Shayari on Life

Sad Shayari on Life

Zindagi Shayari जीवन के अच्छे और बुरे अनुभवों के बारे में है।

यहां आप सबसे अच्छा Shayari on Life संग्रह शायरी पढ़ सकते हैं। सर्वश्रेष्ठ जिंदगी शायरी हमें हमेशा सम्मानजनक जीवन तैयार करने की समझ देती है। जीवन शायरी वास्तविक जीवन से संबंधित है, जो जीवन विचार से संबंधित है।

Zindagi Ki Shayari

तो दोस्तों हम ज़िन्दगी पर नवीनतम शायरी का सर्वश्रेष्ठ संग्रह प्रदान कर रहे हैं जैसे हिंदी ज़िन्दगी शायरी, जीवन पर शायरी, Life Shayari in Hindi, Sad Shayari on Life और Zindagi Par Shayari।

आप इन Zindagi Sad Shayari को बस एक बार पढ़ लेंगे तो आप इन्हें अपने दोस्तों को  व्हाट्सएप और फेसबुक पर Shayri on Life शेयर करना नहीं भूलेंगे।

Zindagi Sad Shayari

ज़िंदगी राज़ी नहीं थी ग़म उठाने के लिए
हम चले आए यहाँ तक मुस्कुराने के लिए

Zindagi raazi nahin thi gam uthaane ke liye
Ham chale aaye yahaan tak muskuraane ke liye

Zindagi Par Shayari

गँवाई किस की तमन्ना में ज़िंदगी मैंने
वो कौन है जिसे देखा नहीं कभी मैंने

Ganvai kis ki tamanna mein zindagi maine
Vo kaun hai jise dekha nahi kabhi maine

Sad Shayari on Life

कितनी सच्चाई से मुझ से ज़िंदगी ने कह दिया
तू नहीं मेरा तो कोई दूसरा हो जाएगा

Kitani sachchai se mujh se zindagi ne kah diya
Tu nahin mera to koi doosara ho jayega

Sad Shayari on Life

तुम्हारी गुफ़्तुगू से आस की ख़ुश्बू छलकती है
जहाँ तुम हो वहाँ पे ज़िंदगी मालूम होती है

Tumhaari guftugu se aas ki khushbu chhalakati hai
Jahaan tum ho vahaan pe zindagi maaloom hoti hai

Zindagi Ki Shayari

मौत की आरज़ू में दीवाने
उम्र-भर ज़िंदगी से लड़ते हैं

Maut ki aarzoo mein deewaane
Umar-bhar zindagi se ladate hain

Zindagi Sad Shayari

ज़िंदगी से बड़ी सज़ा ही नहीं
और क्या जुर्म है पता ही नहीं

Zindagi se badi saza hi nahin
Aur kya jurm hai pata hi nahin

Life Shayari in Hindi

अब भी इक उम्र पे जीने का न अंदाज़ आया
ज़िंदगी छोड़ दे पीछा मिरा मैं बाज़ आया

Ab bhi ik umr pe jine ka n andaaz aaya
Zindagi chhod de pichha mera main baaz aaya

Zindagi Ki Shayari

मुझे ख़बर नहीं ग़म क्या है और ख़ुशी क्या है
ये ज़िंदगी की है सूरत तो ज़िंदगी क्या है

Mujhe khabar nahin gam kya hai aur khushi kya hai
Ye zindagi ki hai soorat to zindagi kya hai