ज़मीं का दर्द

Dard Sad Shayari

किसी की बात कोई बद-गुमाँ न समझेगा
ज़मीं का दर्द कभी आसमाँ न समझेगा

Kisi ki baat koi bad-gumaan na samajhega
Zamin ka dard kabhi aasamaan na samajhega