ये ख़याल था

Khwaab Shayari ख़्वाब शायरी

ये ख़याल था कभी ख़्वाब में तुझे देखते
कभी ज़िंदगी की किताब में तुझे देखते

Ye khayaal tha kabhi khwaab mein tujhe dekhate
Kabhi zindagi ki kitaab mein tujhe dekhate