ज़िंदगी मुझ को मिरी नज़रों में शर्मिंदा न कर

Best Two Line Shayari Ever

ज़िंदगी मुझ को मिरी नज़रों में शर्मिंदा न कर
मर चुका है जो बहुत पहले उसे ज़िंदा न कर

Zindagi mujh ko meri nazaron mein sharminda na kar
Mar chuka hai jo bahut pahale use zinda na kar