तेरे ख़्वाबों की

Khwaab Hindi Shayari

तेरे ख़्वाबों की लत लगी जब से
रात का इंतिज़ार रहता है

Tere khwaabon ki lat lagi jab se
Raat ka intizaar rahata hai