तेरे हिस्से का समय अब भी तन्हां गुजरता है

Tanhai Shayari

तुझसे अब कोई वास्ता भी नहीं है मगर
तेरे हिस्से का समय अब भी तन्हां गुजरता है

Tujhse ab koi vasta bhi nahin hai magar
Tere hisse ka samay ab bhi tanhaan gujarta hai