तमाशा देख रहे

Khatarnak Attitude Shayari 

तमाशा देख रहे थे जो डूबने का मिरे
मिरी तलाश में निकले हैं कश्तियाँ ले कर

Tamaasha dekh rahe the jo dubane ka mire
Miri talash mein nikale hain kashtiyaan le kar