शहर क्या देखें

Khatarnak Attitude Shayari | अकड़ शायरी

शहर क्या देखें कि हर मंज़र में जाले पड़ गए
ऐसी गर्मी है कि पीले फूल काले पड़ गए

Shahar kya dekhen ki har manzar mein jaale pad gaye
Aisi garmi hai ki pile phool kaale pad gaye