न जी भर के देखा

न जी भर के देखा न कुछ बात की
बड़ी आरज़ू थी मुलाक़ात की

N jee bhar ke dekha na kuchh baat ki
Badi aarzoo thi mulaakat ki