न दोस्त ही समझो

Dosti Ki Shayari

न ग़ैर ही मुझे समझो न दोस्त ही समझो
मिरे लिए ये बहुत है कि आदमी समझो

Na gair hi mujhe samajho n dost hi samajho
Mire lie ye bahut hai ki aadami samajho