मैं जानता हूँ के

Hindi Shayri

मैं जानता हूँ के दुश्मन भी कम नहीं लेकिन
हमारी तरहा हथेली पे जान थोड़ी है

Main janata hoon ke dushman bhi kam nahin lekin
Hamaari taraha hatheli pe jaan thodi hai