माँ दुआ करती

Maa Shayari 2 Lines

जब भी कश्ती मिरी सैलाब में आ जाती है
माँ दुआ करती हुई ख़्वाब में आ जाती है

Jab bhi kashti miri sailaab mein aa jaati hai
Maa dua karati hui khwaab mein aa jaati hai