क्या रूप दोस्ती का

Dosti Shayri

क्या रूप दोस्ती का क्या रंग दुश्मनी का
कोई नहीं जहाँ में कोई नहीं किसी का

Kya roop dosti ka kya rang dushmani ka
Koi nahin jahaan mein koi nahin kisi ka