कुछ तो मजबूरियाँ रही होंगी

कुछ तो मजबूरियाँ रही होंगी
यूँ कोई बेवफ़ा नहीं होता

Kuchh to majabooriyaan rahi hongi
Yoon koi bewafa nahin hota