क्या क़यामत है

Hindi Shayari Khwaab

क्या क़यामत है कि आरिज़ उन के नीले पड़ गए
हम ने तो बोसा लिया था ख़्वाब में तस्वीर का

Kya qayaamat hai ki aariz un ke neele pad gaye
Ham ne to bosa liya tha khwaab mein tasveer ka