ख़्वाब ही ख़्वाब

Khwaab Shayari in Hindi

ख़्वाब ही ख़्वाब कब तलक देखूँ
काश तुझ को भी इक झलक देखूँ

Khwaab hi khwaab kab talak dekhoon
Kaash tujh ko bhi ik jhalak dekhoon