ख़ुद-कुशी

Ishq Hindi Shayari

ख़ुद-कुशी जुर्म भी है सब्र की तौहीन भी है
इस लिए इश्क़ में मर मर के जिया जाता है

Khud-kushi jurm bhi hai sabr ki tauhin bhi hai
Is liye ishq mein mar mar ke jiya jaata hai