कर्जा नहीं रखता

Attitude Shayri

मैं किसी का भी कर्जा नहीं रखता हूं
एक सुनता हूं तो दो सुना देता हूं।

Main kisee ka bhi karja nahin rakhata hoon
Ek sunta hoon to do suna deta hoon