जब अधूरे चाँद की

Chand Shayari in Hindi

जब अधूरे चाँद की परछाईं पानी पर पड़ी
रौशनी इक ना-मुकम्मल सी कहानी पर पड़ी

Jab adhure chaand ki parachhain paani par padi
Raushani ik na-mukammal si kahaani par padi