इस क़दर

Dosti Shayri

इस क़दर बढ़ने लगे हैं घर से घर के फ़ासले
दोस्तों से शाम के पैदल सफ़र छीने गए

Is qadar badhane lage hain ghar se ghar ke faasale
Doston se shaam ke paidal safar chhine gaye