जज़्बात पे क़ाबू

Hindi Mein Shayari

Hindi Mein Shayari

इस क़दर भी तो न जज़्बात पे क़ाबू रक्खो
थक गए हो तो मिरे काँधे पे बाज़ू रक्खो

Is qadar bhi to na jazbaat pe kaboo rakkho
Thak gae ho to mire kandhe pe baazu rakkho

किसी के बाप का

shayari in hindi

Shayari in Hindi

सभी का ख़ून है शामिल यहाँ की मिट्टी में
किसी के बाप का हिन्दोस्तान थोड़ी है

Sabhi ka khoon hai shaamil yahaan ki mitti mein
Kisi ke baap ka hindostaan thodi hai

मैं जानता हूँ के

hindi shayri

Hindi Shayri

मैं जानता हूँ के दुश्मन भी कम नहीं लेकिन
हमारी तरहा हथेली पे जान थोड़ी है

Main janata hoon ke dushman bhi kam nahin lekin
Hamaari taraha hatheli pe jaan thodi hai

लगेगी आग तो आएँगे

shayari in hindi

Shayari in Hindi

लगेगी आग तो आएँगे घर कई ज़द में
यहाँ पे सिर्फ़ हमारा मकान थोड़ी है

Lagegi aag to aayenge ghar kai zad mein
Yahaan pe sirf hamaara makaan thodi hai