हर तरफ़ दोस्ती

Dosti Sad Shayari

हर तरफ़ दोस्ती का मेला है
फिर भी हर आदमी अकेला है

Har taraf dosti ka mela hai
Phir bhi har aadami akela hai