एक ख़्वाब था

Dream Shayari

मैं फ़क़त एक ख़्वाब था तेरा
ख़्वाब को कौन याद रखता है

Main faqat ek khwaab tha tera
Khwaab ko kaun yaad rakhata hai