एक ही ख़्वाब ने

Khaab Shayari

एक ही ख़्वाब ने सारी रात जगाया है
मैं ने हर करवट सोने की कोशिश की

Ek hi khwaab ne saari raat jagaaya hai
Main ne har karavat sone ki koshish ki

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on whatsapp
Share on telegram
Khaab Shayari