दर्द भरा था

Dard Bhari Shayari in Hindi

‘फ़िराक़’ दौड़ गई रूह सी ज़माने में
कहाँ का दर्द भरा था मिरे फ़साने में

Firaaq daud gayi ruh si zamaane mein
Kahaan ka dard bhara tha mire fasaane mein