दर्द बे-चारा परेशाँ है

Dard Shayari in Hindi

एक दो ज़ख़्म नहीं जिस्म है सारा छलनी
दर्द बे-चारा परेशाँ है कहाँ से निकले

Ek do zakhm nahin jisam hai saara chhalani
Dard bechaara pareshaan hai kahaan se nikale