देवता मेरे आँगन में

Chand Par Shayari

Chand Par Shayari

देवता मेरे आँगन में उतरेंगे कब ज़िंदगी भर यही सोचता रह गया
मेरे बच्चों ने तो चाँद को छू लिया और मैं चाँद को पूजता रह गया

Devta mere angan mein utrenge kab zindagi bhar yahi sochata rah gya
Mere bachon ne to chand ko chhu liya aur main chand ko pujata rah gya

Related Posts