चाँद पागल है

Chaand Shayari in Hindi

रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है
चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है

Roz taaron ko numaish mein khalal padata hai
Chaand paagal hai andhere mein nikal padata hai