भूल भी जाता हूँ

Mohabbat Shayari Hindi

बारहा उन से न मिलने की क़सम खाता हूँ मैं
और फिर ये बात क़स्दन भूल भी जाता हूँ मैं

Baaraha un se na milane ki qasam khaata hoon main
Aur phir ye baat qasdan bhool bhi jaata hoon main