अज़ीज़ इतना ही रक्खो

अज़ीज़ इतना ही रक्खो कि जी सँभल जाए
अब इस क़दर भी न चाहो कि दम निकल जाए

Azeez itna hi rakkho ki ji sambhal jaye
Ab is qadar bhi na chaaho ki dam nikal jaye