और भी दुख हैं ज़माने में

और भी दुख हैं ज़माने में मोहब्बत के सिवा
राहतें और भी हैं वस्ल की राहत के सिवा

Aur bhi dukh hain zamaane mein mohabbat ke siva
Raahaten aur bhi hain vasl ki raahat ke siva