आदमी और दर्द से

Dard Bhari Shayari in Hindi

आदमी और दर्द से ना-आश्ना मुमकिन नहीं
अक्स से ख़ाली हो कोई आईना मुमकिन नहीं

Aadami aur dard se na-aashna mumakin nahin
Aks se khaali ho koi aaina mumakin nahin